प्रधान और सचिव पर गबन का आरोप रिपोर्टर- अताउल मुस्तफा शाह बलरामपुर/सादुल्लाह नगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांव में विकास कार्य कराकर उनकी सूरत बदलने के लिए सख्त निर्देश दिए हैं। वहीं कुछ ग्राम स - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Tuesday, 4 December 2018

प्रधान और सचिव पर गबन का आरोप रिपोर्टर- अताउल मुस्तफा शाह बलरामपुर/सादुल्लाह नगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांव में विकास कार्य कराकर उनकी सूरत बदलने के लिए सख्त निर्देश दिए हैं। वहीं कुछ ग्राम स

प्रधान और सचिव पर गबन का आरोप

रिपोर्टर- अताउल मुस्तफा शाह

बलरामपुर/सादुल्लाह नगर
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांव में विकास कार्य कराकर उनकी सूरत बदलने के लिए सख्त निर्देश दिए हैं। वहीं कुछ ग्राम सभाओं में ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी आपस मे सांठ गांठ करके सरकारी योजनाओं को पलीता लगा रहे हैं। वे अपनी-अपनी जेबें भरने में मशगूल हैं। इसके चलते ग्रामीण योजनाओं से वंचित होकर शिकायतों को लेकर दर दर भटक रहे हैं। ऐसा ही एक मामला रेहरा विकास खंड के ग्राम पंचायत नथईपुर कानूनगो का सामने आया है। जहां ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान प्रतिनिध सियाराम (जो किसी ग्राम पंचायत में सफाई कर्मी भी हैं) व सचिव संजय मिश्रा पर सांठ गांठ कर विकास कार्यो के लिए आए सरकारी धन को गबन करने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग की है।

ग्राम प्रधान पर संगीन आरोप

ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान वह ग्राम पंचायत अधिकारी संजय मिश्रा के खिलाफ आंदोलन की मुहिम छेड़ दी है। ग्रामीणों ने शिकायती पत्र लिखकर शासन को भेजकर न्याय की गुहार लगाई है।  आरोप है कि ग्राम प्रधान व सचिव सांठ गांठ कर गांव के गरीबों को मिलने वाले निशुल्क आवासों में ग्रामीणों से धन उगाही कर रहे हैं और सरकार की योजनाओं को धराशायी कर रहे हैं। उनका कहना है कि प्रधान शौंचालय, आवास को देने के पूर्व रुपयों की मांग कर रहे हैं और रुपये न होने की बात पर योजनाओं से वंचित रखने की धमकी दे रहे हैं। ग्राम पंचायत में कुछ ऐसी भी महिलाएं हैं जिन्हें विधवा पेंशन व प्रधानमंत्री आवास योजना से वंचित किया गया है जिनके पास ना तो कमाने का कोई जरिया है और ना ही कोई अन्य उपाय वह मजबूर बीमार और लाचार हैं।

कागजों में बनी हैं सड़कें

आरोप है कि गांव में बनने वाली सडक़ें कागजों में तैयार हैं लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। जिसकी शिकायत  कई बार की गयी लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। ग्राम प्रधान से तंग आकर लोगों ने उनके खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया है। उक्त लोगों ने शिकायती पत्र पर पूरा मामला लिखकर डीएम से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत की है जिससे प्रधान व सचिव का यह उगाही का खेल रुक सके और गांव के गरीबो को सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ मिल सके। मनरेगा में कुछ ऐसे भी व्यक्ति काम कर रहे हैं जो कई वर्षों से प्रदेश में रह रहे हैं तथा उनके नाम से लाखों रुपए निकाल लिए गए हैं। ग्रामीणों ने हमारे संवाददाता को यह भी बताया कि ग्राम प्रधान ने मात्र 5/6 वर्षों में लाखों की प्रॉपर्टी बना ली है जिस की जांच अत्यावश्यक है इस संबंध में जब विभागीय अधिकारियों से बात की गई तो वह गोल मटोल बातें बनाते हुए नजर आए।

No comments:

Post a Comment