*बिहार में फिरौती के डेढ़ करोड़ के चेक नहीं भजे तो अपहर्ता ने कर दी हत्या, आरोपी गिरफ्तार* 05-11-2018 रिपोर्टः दिनेश कुमार पंडित बिहार के जिला मुजफ्फरपुर में डेढ करोड़ रुपए की फिरौती के लिए करजा के अंडा कारोबारी जय प्रकाश की अपहरण करके ह - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Monday, 5 November 2018

*बिहार में फिरौती के डेढ़ करोड़ के चेक नहीं भजे तो अपहर्ता ने कर दी हत्या, आरोपी गिरफ्तार* 05-11-2018 रिपोर्टः दिनेश कुमार पंडित बिहार के जिला मुजफ्फरपुर में डेढ करोड़ रुपए की फिरौती के लिए करजा के अंडा कारोबारी जय प्रकाश की अपहरण करके ह

*बिहार में फिरौती के डेढ़ करोड़ के चेक नहीं भजे तो अपहर्ता ने कर दी हत्या, आरोपी गिरफ्तार*
05-11-2018
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
बिहार के जिला मुजफ्फरपुर में डेढ करोड़ रुपए की फिरौती के लिए करजा के अंडा कारोबारी जय प्रकाश की अपहरण करके हत्या कर दी गई थी. पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा कर दिया है. पुलिस ने जय प्रकाश की हत्या के आरोप में एक कथित सामाजिक कार्यकर्ता अजय पांडे को उसकी पत्नी और साले के साथ गिरफ्तार किया गया है. इतना ही नहीं चार लाख रुपए लेने और पुलिस को सूचना देने के बाद हत्या करके जय प्रकाश को उसके गांव के पास ही फेंक दिया गया था, जिसके बाद भारी बवाल हुआ था. एसएसपी मनोज कुमार ने बताया है कि इस अपहरण और हत्या की पूरी साजिश उस अजय पांडे ने बनाई थी जो खुद को सामाजिक कार्यकर्ता बताकर बिजली विभाग के खिलाफ आंदोलन चला रहा था
.   अजय की बड़ी भूमिका थी. अजय की पत्नी प्रियंका ने भी जय प्रकाश की हत्या में भूमिका निभाई थी. प्रियंका ने 30 सितंबर को जय प्रकाश को फोन करके एक जमीन दिखाने के लिए बुलाया. अंडा उत्पादक जय प्रकाश जमीन कारोबार से भी जुड़ा था. जय प्रकाश को बुलाकर इन लोगों ने अपने ही फ्लैट में कैद कर लिया और डेढ़ करोड़ रुपया देने के लिए परिजनों को फोन करवाया. इतना ही नहीं जय प्रकाश से फोन करवाकर चेक बुक मंगवाए गए और डेढ़ करोड़ के चार चेक पर दस्तखत करवाए गए. इस काम में अजय के साले मनीष ने चेक लाने और पहुंचाने का काम किया. एक अक्टूबर को बात तब खुल गई जब इतनी बड़ी राशि का चेक क्लियरेंस से बैंक ने इनकार कर दिया. उसके बाद पुलिस की सक्रियता पर परिजनों ने दो अक्टूबर को केस दर्ज करवाया. संयोग की बात है कि ठीक उसी दिन गोली मारकर जय प्रकाश को उसके घर से तीन किलोमीटर दूर पोखरैरा में फेंक दिया गये।
एसएसपी मनोज कुमार ने बताया कि मिठनपुरा निवासी अजय ने इसमें भी साजिश रची थी जिससे उसी इलाके के अपराधियों पर पुलिस की नजर बनी रहे और वह बच जाए, लेकिन पुलिस ने फिरौती में इस्तेमाल मोबाइल सिम के आधार पर अजय को दबोच लिया. सिम विक्रेता को पकड़ने पर पता चला कि वह सिम अजय पांडे ने खरीदी है. उस सिम को भी बरामद कर लिया गया है. एसएसपी ने बताया कि इस हत्याकांड में पांच अन्य लोगों को भी पकड़ा गया है जिनसे पूछताछ चल रही हैआगे क्या हो कल पता चलेगा

No comments:

Post a Comment