Saturday, 3 November 2018

*बिहार में द्वितीय चरण के संसद आदर्श ग्राम का हुआ चयन* रिपोर्टः दिनेश कुमार पंडित गया, 02 नवंबर 2018, बिहार के गया जिला में सांसद आदर्श ग्राम योजना द्वितीय एवं तृतीय चरण में चयनित आदर्श ग्राम पंचायतों के समग्र विकास हेतु ग्राम विकास योजना की स्वीकृति हेतु बैठक समाहरणालय स

*बिहार में द्वितीय चरण के संसद आदर्श ग्राम का हुआ चयन*
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
गया, 02 नवंबर 2018,

बिहार के गया जिला में सांसद आदर्श ग्राम योजना द्वितीय एवं तृतीय चरण में चयनित आदर्श ग्राम पंचायतों के समग्र विकास हेतु ग्राम विकास योजना की स्वीकृति हेतु बैठक समाहरणालय सभाकक्ष में गया के माननीय सांसद हरि मांझी की अध्यक्षता में की गई। बैठक में उप विकास आयुक्त श्री किशोरी चौधरी, सिविल सर्जन, सदर अनुमंडल पदाधिकारी, वरीय उप समाहर्ता शंभू शरण पांडे, डीसीएलआर सदर एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
बैठक में जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने निदेश दिया कि अपने अपने संबंधित विभाग के कार्य योजना के तहत 12 महीनों में इसे पूरा करें। अनुमंडल पदाधिकारी सदर एवं डीपीओ आईसीडीएस को निर्देश दिया कि सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत चल रहे कार्यों के प्रगति की समय-समय पर मॉनिटरिंग करते रहें। सांसद आदर्श ग्राम योजना को प्राथमिकता देकर कार्य करवाते रहें। उन्होंने कहा कि जहां-जहां सांसद आदर्श ग्राम योजना का कार्य हो रहा है या कार्य पूर्ण हो गया है वहां सांसद आदर्श ग्राम योजना का बोर्ड एवं साइनेज लगाएं।
सांसद आदर्श ग्राम योजना गांव के निर्माण और विकास हेतु कार्यक्रम है। जिसका मुख्य लक्ष्य ग्रामीण इलाकों में समग्र विकास करना है इस कार्यक्रम का शुभारंभ भारत के प्रधान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण के जन्मदिन 11वीं अक्टूबर 2014 को शुरू किया। इस योजना के तहत गांव में विकास और बुनियादी ढांचे रखने हेतु सभी राजनीतिक दलों के सांसद को इस योजना के तहत गांव को गोद लेना है और 2019 तक इसको आदर्श गांव बनाना है। इस मापदंड के आधार पर गया जिले में वर्ष 2015 में प्रथम चरण में 3 ग्राम पंचायत यथा बोधगया प्रखंड के बकरौर, टिकारी प्रखंड के केसपा एवं गुरुआ प्रखंड के कोलौना तथा वर्ष 2017 में द्वितीय चरण में एक आदर्श ग्राम पंचायत यथा बोधगया प्रखंड के नावा एवं तृतीय चरण में वजीरगंज प्रखंड के महुयेत का चयन किया गया है।
इस योजना के तहत निर्धारित की गई प्रत्येक ग्राम पंचायत के लिए एक ग्रामीण विकास योजना तैयार की जाएगी। जिसमें प्रत्येक गरीब परिवार को गरीबी से उबारने में मदद करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा बेसलाइन सर्वेक्षण हेतु 3 प्रपत्र तैयार किया गया है। जिसमें चयनित ग्राम पंचायतों के पारिवारिक सर्वेक्षण, ग्राम सर्वेक्षण एवं पंचायत सर्वेक्षण विहित प्रपत्र में करने के पश्चात एक वर्षीय ग्राम विकास योजना तैयार किया जाना है।
सांसद आदर्श ग्राम योजना का क्रियान्वयन प्रथम चरण में चयनित 3 ग्राम पंचायतों में अब तक 1486 योजनाओं का कार्य उक्त चयनित ग्राम पंचायतों में चल रहा है। जिसमें अब तक 709 योजनाएं पूर्ण हो चुकी है। शेष सभी योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। जिसमें मुख्यतः ग्रामीण सड़क, नाली, समुदायिक भवन, आगनवाड़ी केंद्र, कृषि, शिक्षा, पेयजल, स्वच्छता एवं स्वास्थ्य आदि का कार्य किया जा रहा है। प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा द्वितीय एवं तृतीय चरण में चयनित 2 ग्राम पंचायतों नावां, बोधगया तथा महुयेत, वजीरगंज का बेसलाइन सर्वेक्षण किया जा रहा है एवं ग्रामीण विकास योजना प्रपत्र में तैयार किया जा चुका है। जल्द ही माननीय संसद की उपस्थिति में स्वीकृति हेतु तैयार की जा रही है।
बैठक में उप विकास आयुक्त श्री किशोरी चौधरी, सिविल सर्जन, सदर अनुमंडल पदाधिकारी, वरीय उप समाहर्ता शंभू शरण पांडे, डीसीएलआर सदर एवं अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment