सरकार कर रही है किसानों के साथ सौतेला व्यवहार बड़े बड़े वादे करने के बाद भी किसानों के साथ धोखा सरकार का नारा सबका साथ सबका विकास थौथला होते हुए किसान महंगाई की मार से परास्त - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Saturday, 27 October 2018

सरकार कर रही है किसानों के साथ सौतेला व्यवहार बड़े बड़े वादे करने के बाद भी किसानों के साथ धोखा सरकार का नारा सबका साथ सबका विकास थौथला होते हुए किसान महंगाई की मार से परास्त

सरकार कर रही है किसानों के साथ सौतेला व्यवहार

बड़े बड़े वादे करने के बाद भी किसानों के साथ धोखा

सरकार का नारा सबका साथ सबका विकास थौथला होते हुए

किसान महंगाई की मार से परास्त

खाद संबंधी रेट  में भारी इजाफा

करैरा ब्रेकिंग न्यूज

करैरा/करैरा के कस्बे में आजकल चौपाल ऊपर एवं किसानों की जुबान पर महंगाई की मार बहुत अधिक पड़ रही है हर जगह चर्चा फैली हुई है सरकार ने एकदम किसानों पर इतनी महंगाई की मार डाल दी की हर मनुष्य का जीवन बहुत प्रभावित हो रहा है जिससे खर्चे का बोझ अधिक पढ़ रहा है और सरकार यह बात ही कर रही है कि हम किसानों के साथ हैं मैं पूछना चाहता हूं सरकार से किसानों आंखों में आंसू ही आंसू देखे जा रहे हैं खाद बोरियों अधिक रेट एवं कीमत हो जाने के कारण हर गांव हर कस्बे में यह चर्चा चल रही है जो खाद की बोरियां कितनी कीमत बढ़ जाने के कारण किसानों के साथ सरकार ने अधिक बोझ डाल दिया 1050काDAP1450मे दिया जा रहा है और 50 kgका बैग 42 Kg बैठ रहा है लो हो गया किसानों की आय दोगुनी बदल दो उसका नाम नई योजना में ऐसे कब तक किया जाएगा किसानों के साथ धोखा पुरानी कहावत है सखी सैंया तो बहुत ही कमात है महंगाई डायन खाए जात है ऐसा किसानों के साथ सौतेला बिहार ठीक नहीं है किसानो की हक की लड़ाई कौन लड़ेगा आने वाला भविष्य तय करेगा किसानों में आक्रोश अधिक देखने को मिल रहा है सूत्रों के मुताबिक जानकारी में क्या चर्चाएं महोदय फैली हुई है कि यह सरकार किसानों के साथ कुछ हद तक ठीक है पर महंगाई पर अधिक बढ़ावा दे रही है और शासन प्रशासन के कर्मचारी कुछ गहरी नींद में सोई हुई है अभी तो किसानों के लिए खाद विभाग संबंधित अधिकारी की ओर निगाहें करे हुए हैं कि शायद शासन की तरफ से खाद की व्यवस्था कम दामों में हो सके पर हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी खास संबंधी समस्याएं एवं कालाबाजारी हमेशा चरम पर रहती है आगे राम भरोसे किसान भाइयों कुछ समय यह नारा दिया गया था शासन की किसी सरकार ने जय किसान जय जवान पर आज दोनों का बुरा हाल है

M,k,
Karera repodr

No comments:

Post a Comment