Thursday, 25 October 2018

शिक्षा के नाम पर बच्चों के भविष्य साथ हो रहा है खेलवाड़ संवाददाता। गोपालगंज एक तरफ तो शुशासन बाबू की सरकार शिक्षा देने के लिए नई योजनाये चला रही है। वही गोपालगंज जिले के मांझा प्रखंड के हरपुर गोसाई उत्क्रमित मध्य विद्यालय में शिक्षा के नाम पर ब

शिक्षा के नाम पर बच्चों के भविष्य साथ हो रहा है खेलवाड़

संवाददाता। गोपालगंज
एक तरफ तो शुशासन बाबू की सरकार शिक्षा देने के लिए नई योजनाये चला रही है। वही गोपालगंज जिले के मांझा प्रखंड के हरपुर गोसाई उत्क्रमित मध्य विद्यालय में शिक्षा के नाम पर बच्चों के भविष्य के साथ खेलवाड़ किया जा रहा है। मांझा प्रखंड प्रमुख देवलाल साह ने बताया कि वह मांझा प्रखंड अंतर्गत हरपुर गोसाई उत्क्रमित मध्य विधालय में औचक निरीक्षक किया। तब उन्होंने देखा कि एक भी बचा अपने क्लास रूम में नहीं बैठा था। वही शिक्षक अपने आप मे मगन थे। तब वे  क्लास तीन पहुंचे। जहां उन्होंने बच्चों से पूछा बिहार के शिक्षा मंत्री कौन है, किसी बचो ने इसका जवाब नही दिया। तब वहां मौजूद शिक्षिका गुडिया शाहनाज से कहा कि क्या बच्चों को अभी तक यह भी नही बताया गया की उसके राज्य के शिक्षा मंत्री कौन है। तब  शिक्षिका से पुछा की आप कितने वर्षो से यहा पढ़ाती है। तब शिक्षिका के द्वारा बताया गया कि वह वर्ष 2011 से इस विद्यालय में कार्यरत है। इस पर प्रमुख द्वारा पूछने पर पर 2011 से अभी तक कितने वर्ष हुए तो शिक्षिका के द्वारा बताया गया कि आठ साल। तब प्रखंड प्रमुख के द्वारा कहा गया कि 11 में आठ जोड़ने से अगर 18 होते है। तब 11 में सात जोड़ने से कितना होगा। वही जब प्रधानाध्यपक से इसके बारे में पूछा गया। तो उनके द्वारा बताया गया कि शिक्षा विभाग के द्वारा कम रुपये मिलते है। इसीलिये ऐसे शिक्षकों की बहाली हुई है।
    वही दूसरी तरफ वह मध्यान भोजन में बने खाना देखने पहुंचे जहां उन्होंने देखा कि 119 बच्चों के बीच महज दो से तीन किलो के  चावल बनाया गया था। तथा वही सब्जी भी कम मात्रा में बनाया गया था। वही जब वह कक्षा पांचवी में पहुंचे जहां उन्होंने देखा कि महज नौ लड़के मौजूद थे। जिसपर क्लास में मौजूद शिक्षक से पूछने पर शिक्षक के द्वारा बताया गया कि कॉपी मूल्यांकन का कार्य चल रहा है। जिसके चलते बच्चों की संख्या काफी कम है।

No comments:

Post a Comment